03 December, 2022

मथोली गांव-इस गॉंव में महिलाएं है हर काम में अव्वल

women village matholi uttarakhand

Rural tales की मुहिम ला रही है रंग

उत्तराखंड में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की दिशा में कई युवा आगे बढ़कर कार्य कर रहे है। इन्ही युवाओ में एक नाम है प्रदीप पंवार जिन्होंने नेहरू पर्वतारोहण संस्थान से बेसिक और एडवांस कोर्स भी किया है। केदारनाथ आपदा के बाद राहत बचाव में जुटे और उसके बाद ग्रामीण पर्यटन को उत्तराखंड में बढ़ावा दे रही the Goat village के साथ जुड़ गए।

women village matholi uttarakhand

प्रदीप पंवार के गाँव मथोली में है पर्यटन की असीम संभावनाएं

मथोली गाँव उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले चिन्यालीसौड़ ब्लॉक में स्थित है। इस गॉंव में छानियाँ, जंगल, गाड़ गदेरे, झरने मिलेंगे। गाँवों में लहलहाते खेत दिखेंगे। इस ट्रेल मैं पहाड़ी गांवों की लोक संस्कृति, खान पान, पशुपालन और इको सिस्टम आप देख पाएंगे। खास बात है कि पिछली बार हमने इस गॉंव को एक्स्प्लोर किया था। प्रदीप पंवार ने अपनी छानी जिसमे पशु रहते है उसे होम स्टे में बदल दिया।

women village matholi uttarakhand

अपने गाँव में रोजगार ढूंढ रहे प्रदीप ने काफी मेहनत के बाद अब इस गॉंव को पर्यटन की दृष्टि से आगे बढ़ाने की सोची। इसके साथ ही गाँव के युवाओं और महिलाओ को भी इसमें जोड़ा गया।

पारंपरिक फसलों से लहलहाते है इस गॉंव के खेत

women village matholi uttarakhand

यह गांव गंगोत्री नेशनल हाईवे पर चिन्यालीसौड़ बाजार से मात्र 10 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां पर अभी भी ट्रेडीशनल फार्मिंग होती है जैसे मंडुआ, झंगोरा, चौलाई, गहत और लाल चावल, पानी के अभाव के कारण यहां पर उन्ही फसलों की बुवाई की जाती है जिन्हें पानी की ज्यादा आवश्यकता  नहीं होती है, यहां लाल चावल को काफी मात्रा में उत्पादन किया जा सकता है। मथोली गाँव और इस पूरी ट्रेल में  30-40 गाव है। इको टूरिज्म से इस वैली को जोड़ा जा सकता है। इस गॉंव की सबसे अच्छी खूबी है कि चिन्यालीसौड़ में ही मेडिकल सुविधा उपलब्ध है।

women village matholi uttarakhand

Mud हाउस बनने की कहानी

इस गॉंव की सबसे बड़ी खूबी है कि दिल्ली से एक ही दिन में यहाँ पहुँचा जा सकता है। देहरादुन से 130 किमी की दूरी पर मथोली गाँव स्थित है। गॉंव में हिमालय और टिहरी डैम की झील दिखती है।

women village matholi uttarakhand

गढ़वाल विवि से स्नातक की पढ़ाई के बाद प्रदीप ने कई संस्थाओं के साथ काम किया। The Goat village के साथ जुड़कर प्रदीप ने भी अपने पुश्तैनी छानी को एक आकर्षण और पारंपरिक घर तैयार किया है। इस पहाड़ी शैली के घर को बनाने में लकड़ी, पत्थर, पठाल और मिट्टी का प्रयोग किया है। ये घर गर्मियों में ठंडे और सर्दियों में गर्म होते है। करीब एक साल तक बनाने के बाद इस घर में अब सैलानियों की चहलकदमी बढ़ गई है।

women village matholi uttarakhand

मथोली में आयोजित हो रहा है घसियारी महोत्सव

पहाड़ की महिलाओं का संघर्ष पहाड़ जैसा है लेकिन कभी भी हमने इन महिलाओं का उत्साह नही बढ़ाया।पहाड़ की महिलाओं का प्रतिदिन घास काटने दूर दूर जाती है। इस दौरान महिलाएं अपना सुख दुख साझा करती है।

women village matholi uttarakhand

पहाड़ के कई हिस्सों में आज भी महिलाओ के सम्मान में घसियारी महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। मथोली गाँव में भी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च आयोजित किया जा रहा है। इस दौरान महिलाओं द्वारा घास काटने और पारंपरिक नृत्य और गीत का भी आयोजन किया जाएगा।

Contact:
Name: Pradeep Panwar
Mobile: 9411188136
Email: [email protected]

Sandeep Gusain

नमस्ते साथियों।

मैं संदीप गुसाईं एक पत्रकार और content creator हूँ।
और पिछले 15 सालों से विभिन्न इलेक्ट्रानिक मीडिया चैनल से जुडे हूँ । पहाड से जुडी संवेदनशील खबरों लोकसंस्कृति, परम्पराएं, रीति रिवाज को बारीकी से कवर किया है। आपदा से जुडी खबरों के साथ ही पहाड में पर्यटन,धार्मिक पर्यटन, कृषि,बागवानी से जुडे विषयों पर लिखते रहता हूँ । यूट्यूब चैनल RURAL TALES और इस blog के माध्यम से गांवों की डाक्यूमेंट्री तैयार कर नए आयाम देने की कोशिश में जुटा हूँ ।

2 responses to “मथोली गांव-इस गॉंव में महिलाएं है हर काम में अव्वल”

  1. Chandni Chauhan says:

    Bahut khoobsurat.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *