03 December, 2022

उत्तरखंड का राज्य वृक्ष-बुराँश

national tree of uttarakhand burans

बुराँश उत्तरखंड का राज्य वृक्ष है। यह समुद्र तल से 1500 मीटर से 3500 मीटर तक कि ऊँचाई पर पाया जाता है। प्रदेश में बसंत ऋतु रंग बिरंगे फूलों की सौगात लेकर आती है। उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में इन दिनों चोपता बुराँश के कई रंगों से महक रहा है। चोपता को यूँ तो पहाड़ का स्विट्जरलैंड भी कहा जाता है लेकिन कई मायनों में यह स्विट्ज़रलैंड से भी ज्यादा खूबसूरत है।

national tree of uttarakhand burans

केदारनाथ वाइल्डलाइफ सेंट्यूरी में स्थित चोपता के जंगलों में मार्च और अप्रैल के महीने में सुर्ख गुलाबी फूलों से खिल जाता है। लाल के साथ चोपता के जंगलों में हल्का गुलाबी, सुर्ख गुलाबी और मई महीने में सफेद फूल भी खिलते है। चोपता से तुंगनाथ ट्रेक में आप इन सभी रंगों के फूलों को महसूस कर सकते है।

national tree of uttarakhand burans

बुराँश का फूल जितना सुंदर होता है वो शरीर के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। इस फूल की पंखुड़ियों को तोड़कर जूस तैयार किया जाता है जो गर्मियों के समय काफी राहत देता और हार्ट की बीमारियों के लिए फ़ायदेमंत माना जाता है। फरवरी से लेकर अप्रैल माह तक आप बुराँश के कई रंग के फूलों को करीब से देखना चाहते हो तो फिर आप चोपता की घने जंगलों में आ सकते है।

Photo credit- Vijay Negi

Sandeep Gusain

नमस्ते साथियों।

मैं संदीप गुसाईं एक पत्रकार और content creator हूँ।
और पिछले 15 सालों से विभिन्न इलेक्ट्रानिक मीडिया चैनल से जुडे हूँ । पहाड से जुडी संवेदनशील खबरों लोकसंस्कृति, परम्पराएं, रीति रिवाज को बारीकी से कवर किया है। आपदा से जुडी खबरों के साथ ही पहाड में पर्यटन,धार्मिक पर्यटन, कृषि,बागवानी से जुडे विषयों पर लिखते रहता हूँ । यूट्यूब चैनल RURAL TALES और इस blog के माध्यम से गांवों की डाक्यूमेंट्री तैयार कर नए आयाम देने की कोशिश में जुटा हूँ ।

3 responses to “उत्तरखंड का राज्य वृक्ष-बुराँश”

  1. Chandni Chauhan says:

    Very nice 👍👍

  2. veerendar Sunkara says:

    I was more than happy to uncover this great site. I need to thank you for your time due to this fantastic read!! I definitely enjoyed every bit of it and I have you bookmarked to see new information on your blog.
    Javadi Hills
    bhimashankar temple

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *