01 February, 2023

केदारनाथ श्रद्धालुओं को आ रही हैं दिक्कतें

kedarnath news update

बेस कैम्प से मंदिर प्रांगण तक नही कोई भी रैन शेल्टर

आपदा के बाद पिछले 9 सालों से बेस कैम्प से मंदिर प्रांगण तक करीब 2 किमी तक कोई भी रेन शेल्टर नही है। इस समय हर दिन बारिश हो रही है और यात्री भीगने को मजबूर रहते है। जब मंदिर प्रागंण से पहले करीब 200 मीटर से सीढियां शुरू होती है तो फिर ना तो शौचालय की सुविधा मिलती है और ना ही कोई रेन शेल्टर ही मिलता है। मजबूरी में यात्रियों को दर्शनों के लिए लाइन में लगाना पड़ता है।

kedarnath news update

हेलीपैड में भी नही है रेन शेल्टर

केदारनाथ धाम में हेलीपैड के पास भी कोई वेटिंग एरिया नही है और ना ही कोई रेन शेड है। यात्री दिन भर अपनी बारी का इंतजार करते रहते है। बारिश के की वजह से यात्री परेशान रहते है।

kedarnath news update

केदारनाथ धाम में अभी तक राज्य सरकार एक हॉस्पिटल नही बना पाई। पिछले 9 सालों से जिसकी सबसे ज्यादा जरूरत है वो हॉस्पिटल नही बन पाया है। केदारनाथ धाम की यात्रा चारों धामों में सबसे ज्यादा कठिन और मुश्किलों भरी मानी जाती है। इस बार भी सबसे ज्यादा यात्री केदार यात्रा में ही मर रहे है। सांस फूलने और उसके बाद हार्ट अटैक आने के कारण सबसे ज्यादा मौत हो रही है। धाम में केवल विवेकानंद और सिग्मा संस्था की तरफ से स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे है।

Sandeep Gusain

नमस्ते साथियों।

मैं संदीप गुसाईं एक पत्रकार और content creator हूँ।
और पिछले 15 सालों से विभिन्न इलेक्ट्रानिक मीडिया चैनल से जुडे हूँ । पहाड से जुडी संवेदनशील खबरों लोकसंस्कृति, परम्पराएं, रीति रिवाज को बारीकी से कवर किया है। आपदा से जुडी खबरों के साथ ही पहाड में पर्यटन,धार्मिक पर्यटन, कृषि,बागवानी से जुडे विषयों पर लिखते रहता हूँ । यूट्यूब चैनल RURAL TALES और इस blog के माध्यम से गांवों की डाक्यूमेंट्री तैयार कर नए आयाम देने की कोशिश में जुटा हूँ ।

2 responses to “केदारनाथ श्रद्धालुओं को आ रही हैं दिक्कतें”

  1. Pravin says:

    I follow your YouTube channel. I watched your recent Kedarnath yatra episodes. It was a divine experience no doubt but the issues you mentioned here, were never mentioned anywhere, neither on Government sites nor private visitors’ which are important amenities for any tourist and religious place of that importance. Moreover, if Uttarakhand administration is unable to handle tourist rush, as mentioned in Amar Ujala paper, why did they even advertise for the same? 31 people have died of heart attacks in last 13 days (actual number may be more), what is there for them to even talk about? Kedarnath shrine has always been a favourite place in our mind and people will always risk their lives to seek baba Kedarnath’s blessings but it seems that Uttarakhand government is just trying to encash the situation by manipulating people’s faith with empty words. Hope your videos and blogs raise awareness in tourists and people and that leads to move the administration to do something about it.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *